31.1 C
New Delhi
Wednesday, August 10, 2022
HomeMotivationभैंस चराई, प्राइवेट नौकरी की और फिर शादी के खिलाफ की बगावत!...

भैंस चराई, प्राइवेट नौकरी की और फिर शादी के खिलाफ की बगावत! तब जाकर IAS बनीं वनमती

आईएएस सी वनमती का सफर आसान नहीं रहा। भैंस चराने से लेकर वनमती को खर्चे के लिए प्राइवेट नौकरी भी करनी पड़ी। शादी की जब बात आई तो बगावत भी की। सीरियल की नायिका से प्रेरित होने वाली लड़की ने जब सपने देखे तो मंजिल हासिल करके ही दम लिया।

अगर व्यक्ति के मन में लगन और दृढ़ ईच्छाशक्ति हो तो कितने भी अभाव व अवरोध हों तो भी वे उसकी सफलता को रोक नहीं सकते हैं. इसी कथन को सही साबित किया है सी.वनमती.वन ने. जिन्होंने 2015 में यूपीएससी की परीक्षा को पास करके आईएएस बनने का अपना सपना पूरा किया और समाज के दूसरे अभ्यर्थियों के लिए एक मिशाल पेश की. यह सफलता उन्होंने दूसरे प्रयास में हासिल की, क्योंकि पहले प्रयास में वे असफल रहीं थीं.

छोटे गांव में लड़की होना आज भी अभिशाप मना जाता है। लड़की होने पर शोक मानते है, लेकिन वो ये नही जानते कि आज लड़की हर क्षेत्र में पुरुषों से कम नही है। हर क्षेत्र में कामयाबी के झंडे लहरा रही है। कई बार परिस्थिति इतनी विपरीत होती है की इंसान उम्मीद ही छोड़ देता है, ये सोच के कर खुद को तशली दे देता है की ये सपने उनके लिए बने ही नही है।

भारत में सिविल सेवा परीक्षा (Civil Service Exam) को सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है, क्योंकि इसे पास कर लेने के बाद व्यक्ति आईएएस या आईपीएस ऑफिसर (IAS-IPS Officer) बनता है। अगर आपको अपने सपनों पर विश्वास है और आपके अंदर वो जुनून है की किसी भी हाल में आप उन्हे सच कर दिखाऐंगे, तो यकीन मानिये आपको आपके सपने पूरे करने से कोई नहीं रोक सकता।

आईएएस ऑफिसर सी.वनमती.वन कैसा रहा प्रारंभिक जीवन?

सी वनमती एक साधारण परिवार से है जिनके यहाँ पर पशुपालन का कार्य किया जाता है ! और वनमती भी पशुओं को चारा दाना खिलने का कार्य और उनको चराने का कार्य भी किया करती थी ! वह पढ़ाई में बहुत ही ठीक थी और उन्हें लगता था कि एक दिन में अपने घर परिवार का सहारा बनूँगी ! जोकि आज उनकी मेहनत रंग लाई है उनके पिता एक ड्राइवर थे ! सी. वनमती वन का बचपन भैंसो को चराते हुए बीता लेकिन उन्होंने पढ़ाई को कभी नहीं छोड़ा ! अनेको अवरोधों और समस्या के बावजूद भी मन में लगन और द्रढ़ इच्छा शक्ति ने सी. वनमती वन को बनाया IAS ऑफिसर |

पारिवारिक कार्यों में हाथ बटाते हुए उन्होंने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई पूरी कर ली. 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात पारिवारिक एवं सामाजिक स्तर पर उनके विवाह की बातें भी शुरू हो गयीं.

आईएएस ऑफिसर सी.वनमती.वन का कौन रहा प्रेरणा स्रोत?

सी. वनमती. वन को आईएएस बनने की प्रेरणा एक धारावाहिक से प्राप्त हुई. ‘गंगा यमुना सरस्वती’ नामक इस धारावाहिक की आईएएस नायिका के किरदार से प्रभावित होकर उन्होंने अपने मन में आईएएस ऑफिसर बनने का दृढ़निश्चय कर लिया. इस कठिन लक्ष्य को उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में प्राप्त किया.

UPSC की परीक्षा के लिए शुरू की तैयारी

वनमती ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद घर की आर्थिक स्थिति को देखते हुए उन्होंने एक प्राइवेट बैंक में जॉब भी करना शुरू कर दिया ! लेकिन वह अपने लक्ष्य को नहीं भूली और सिविल सर्विसेज एग्जाम (संघ लोक सेवा आयोग) की तैयारी में लग गई ! Union Public Service Commission (UPSC) की तैयारी में उन्हें कई मुस्किले भी आई लेकिन उन्होंने अपनी तैयारी को नहीं छोड़ा! वनमती के माता पिता ज्यादा पढ़े लिखे नहीं थे ! इरोड में वनमती का परिवार पशु पालन करता था |

इंटरव्यू के दो दिन पहले पिता को करना हॉस्पिटल में एडमिट

सी.वनमती.वन की इंटरव्यू की निर्धारित तिथि से ठीक दो दिन पहले अचानक उनके पिता जी का स्वास्थ्य ख़राब हो गया जिसके चलते उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा. हॉस्पिटल में पिता की देखभाल का पूरा जिम्मा वनमती के ऊपर होने के कारण उन्होंने अपने पिता की देखभाल करते हुए आईएएस का इंटरव्यू दिया और सफलता की मंजिल हासिल कर एक मिशाल बनी.

दूसरी बार में हुआ सिलेक्शन

वनमती ने UPSC की एग्जाम की तैयारी तो बहुत की लेकिन उनको पहली बार में सफलता नहीं मिली ! फिर भी वह निरास नहीं हुई और आगे भी मेहनत करती रही ! उन्होंने दूसरी बार में इस सिविल सर्विसेज एग्जाम की पास किया ! साल 2015 में उनका नाम UPSC के परिणाम लिस्ट में शामिल हो गया !

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments