17 वर्षों की असफलता से भी नहीं मानी हार, लगातार संघर्ष से हासिल किया सिविल जज का मुकाम

अक्सर कुछ लोग जिंदगी में आने वाली असफलताओं से डर जाते हैं, और अपना मकसद पूरा नहीं कर पाते। वह अपने सपने से निराशा प्राप्त करते हुए अलग रास्ता चुनते हैं। आज की हमारी यह प्रस्तुति एक ऐसे युवक की है, जिन्होंने अपने लक्ष्य को पाने के लिए एक या दो वर्ष नहीं बल्कि 17 वर्षों तक प्रयास किया और अंततः उन्होंने लक्ष्य को पूरा कर सफलता हासिल कर ही ली।

तुसार जायसवाल की कहानी

तुसार जायसवाल (Tusar Jaiswal) कानपुर (Kanpur) से नाता रखते हैं। वह एक मिडिल क्लास फैमिली से हैं। उन्होंने अपने असफलता से लड़ाई लड़ते हुए, सफलता हासिल करने के लिए पूरे 17 वर्षों तक संघर्ष किया। 17 वर्ष कोई कम दिन नहीं है, अगर हम अपने समाज या रिश्तेदारों की बात करें, तब हमें यह महसूस होगा कि किसी के द्वारा पूछे गए प्रश्न, बेटा तुम अब क्या कर रहे हो? तब बार-बार किसी को यही बोला कि तैयारी, कितनी अजीब बात है ना!

तुसार ने इसे कभी अपनी कमज़ोरी नहीं बनाया। आज वह सिविल जज हैं और उन सभी युवाओं के लिए उदाहरण हैं, जो ज़िंदगी में आए असफलताओं से संघर्ष करते हुए सफलता हासिल करते हैं।

Tusar jaiswal success story of becoming judge

तुसार की स्कूलिंग

तुषार ने अपनी दसवीं कक्षा की पढ़ाई जयपुरिया से की। वर्ष 1999 में उन्होंने 12वीं पास की और ग्रेजुएशन की शिक्षा पीपीएन कॉलेज से ली फिर वह सिविल सर्विसेज के लिए खुद को तैयार करने लगे। परीक्षा की तैयारी करते हुए, उन्होंने बहुत बार एग्जाम दिया। कभी वह प्री पास कर पाते, तो कभी मेंस में जाते और अगले राउंड में चूक जाते। कभी वह इंटरव्यू को भी क्लियर कर लेते, लेकिन लास्ट में चूक जाते।

यह भी पढ़े :- पढ़ाई के लिए घर गिरवी रखना पड़ा, मगर बेटे ने कैलेक्टर बनकर किया सपने को पूरा

परिवार का मिला सहयोग

जब उन्हें बार-बार असफलता मिलने लगी तब बहुत से लोगों ने उन्हें सजेशन दिया कि तुम इस क्षेत्र को छोड़ किसी और क्षेत्र की तैयारी करो, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी और अपने लक्ष्य को पूरा करने में लगे रहे। इस दौरान उन्होंने शादी नहीं की और उनके फैमिली वालों ने उनका बहुत सपोर्ट किया।

Tusar jaiswal success story of becoming judge

लम्बी अवधि के बाद मिली सफलता

आखिरकार जिस दिन का इंतज़ार तुसार और उनके परिवार को था वह आ ही गया। वर्ष 2018 में उनका चयन सिविल जज के लिए हुआ। उन्होंने UP-PSC में सफलता हासिल की। अपनी असफलता से सीख लेकर आगे बढ़ना और सफलता हासिल करने के लिए हम तुसार को बधाई देते हैं।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *