इंजीनियर से IAS बनने में लगे कई साल, बार बार असफल होने पर भी नहीं मानी हार

यूपीएससी की परीक्षा उन परीक्षाओ में से एक है, जिसमें कड़ी मेहनत करने के बाद भी कैंडिडेट सफल होंगे यह निश्चित नहीं होता। फिर भी हर वर्ष लाखों लोग यह परीक्षा देते हैं, जिनमें से कुछ कैंडिडेट ही सफ़ल हो पाते हैं। कुछ ऐसे भी व्यक्ति होते हैं, जो नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी करते हैं। उनके लिए जल्दी सफलता प्राप्त करना और भी जरूरी हो जाता है। आज की हमारी कहानी एक ऐसी ही लड़की की है, जिसने अच्छी नौकरी छोड़ने के बाद कड़ी मेहनत से तैयारी कर अपने तीसरे प्रयास में 6वीं रैंक के साथ यूपीएससी की परीक्षा में सफल हुई।

विशाखा यादव (Vishakha Yadav) की कहानी

विशाखा यादव दिल्ली (Delhi) की निवासी हैं। उनकी पढ़ाई दिल्ली से ही पूरी हुई। विशाखा बचपन से ही पढ़ने में बहुत अच्छी थीं। वह बचपन से ही सिविल सेवा में जाना चाहती थीं, जिसकी तैयारी उन्होंने कुछ समय बाद शुरू की। यह सपना केवल विशाखा का ही नहीं था बल्कि उनके माता-पिता भी विशाखा को सिविल सर्विसेस के क्षेत्र में ही भेजना चाहते थे। बारहवीं की परीक्षा देने के बाद विशाखा ने इंजीनियरिंग की और एक कंपनी में दो साल तक काम भी किया परंतु उसके कुछ ही समय बाद उन्होंने नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी।

Success story of an IAS officer from an engineer

विशाखा बताती हैं अपनी गलतियां

विशाखा अपने पहली और दूसरी प्रयासों की गलती बताते हुए कहती हैं कि उन्होंने बहुत सारे रिर्सोस इकट्ठा कर लिये थे। जिनकी वजह से वह ठीक से रिवीजन नहीं कर पायी थी। इसके अलावा उन्होंने मॉक टेस्ट भी बहुत कम दिए थे। विशाखा बताती हैं कि इस परीक्षा को पास करने के लिए मॉक टेस्ट बहुत जरूरी हैं। इससे आपको यह पता चलता है कि आप कितने प्रश्न कर पाते हैं। साथ ही इससे आपकी प्रैक्टिस भी हो जाती है।

विशाखा यादव द्वारा दिये गये इंटरव्यू का विडियो यहां देखे –

विशाखा देती हैं यूपीएससी के टिप्स

विशाखा यूपीएससी की तैयारी कर रहे कैंडिडेटस को यह सलाह देती हैं कि इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए निरंतरता बहुत जरूरी है। इसके लिए आपको लंबे समय तक लगातार पढ़ना पड़ता है, जब तक मंज़िल ना मिल जाए। कई बार ऐसा होता है कि कैंडिडेट को सफलता प्राप्त करने में लंबा समय लग जाता है। ऐसे में कैंडिडेट को हिम्मत नहीं हारना चाहिए और लगातार प्रयास करते रहना चाहिए। अपनी गलतियों पर ध्यान देना चाहिए और उसे सुधारने का प्रयास करना चाहिए। विशाखा अंत में यही कहती हैं कि ऐसा करने से यूपीएससी की परीक्षा में सफलता अवश्य प्राप्त किया जा सकता है।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *