ऑटो रिक्शा चालक की बेटी ने विपरीत परिस्थिति में मिस इंडिया रनरअप बनकर चौंका दिया

कठिन रास्तों से कभी घबराये नहीं क्योंकि कठिन रास्ते ही हमें खुबसूरत मंज़िल तक ले जाते हैं।

उपर्युक्त पंक्तियां साबित करती हैं कि कठिन रास्तों से गुजर कर और जीवन में आनेवाली सभी चुनौतियों का सामना करके ही मनुष्य एक खुबसूरत मंज़िल तक पहुंच पाता है। प्रतिभा संसाधनों की मोहताज नहीं होती है, इस बात को सही साबित कर दिखाया है एक ऑटो ड्राईवर की बेटी ने, जिसने अपने जीवन की सभी चुनौतियों का सामना करते हुए VLCC फेमिना मिस इंडिया 2020 की रनर-अप बनकर सफलता की नई इबारत लिख दिया है।

मान्या सिंह का परिचय

मान्या सिंह (Manyaa Singh) उत्तरप्रदेश (UttarPradesh) के कुशीनगर के एक बहुत ही गरीब परिवार से सम्बन्ध रखती हैं। उनके पिता का नाम ओम प्रकाश सिंह है और वह ऑटो चलाते हैं। मान्या सिंह के लिये एक आम लड़की से फेमिना मिस इंडिया 2020 का रनर-अप बनने का सफर बेहद संघर्षपूर्ण रहा, जिस वजह से उनके संघर्ष की कहानी सोशल मीडिया पर भी काफी चर्चा का विषय बनी हुई है।

becoming VLCC runner up

खुबसूरत मंज़िल के पीछे छुपी संघर्ष की कहानी

अपने इस खुबसूरत मंज़िल तक पहुंचने के लिये मान्या सिंह ने जीवन की तमाम मुसीबतों का सामना किया। उन्होंने अपने संघर्ष की कहानी स्वयं ही शेयर किया, जिसके अनुसार कई रातें बिना भोजन और नींद के बिताईं गई हैं। यहां तक कि उनके पास यात्रा के लिये भी पैसे नहीं थे, जिससे वह रिक्शा तक का किराया भी दे सकतीं थीं।

becoming VLCC runner up

कम उम्र में ही पढ़ाई के साथ किया काम

गरीबी ऐसी कि मान्या के परीक्षा की फीस भरने के लिये उनकी मां को अपने गहने गिरवी रखने पड़े लेकिन मान्या ने अपनी दृढ़ इच्छा-शक्ति और मेहनत से आगे बढ़ना चुना। मान्या अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में लिखती हैं कि आर्थिक तंगी के वजह से कम उम्र में ही उन्हें काम भी करना पड़ा था। वह मीलों पैदल चलकर जाती थीं ताकि रिक्शा का किराया बचा सके। मान्या दिन के समय अपनी पढ़ाई करतीं और शाम को बर्तन धोती थी तथा रात के समय वह कॉल सेंटर में काम भी करती थीं।

becoming VLCC runner up

मिस इंडिया 2020 का रनर-अप बनकर मिसाल कायम किया

मान्या सिंह ने सभी कठिनाइयों का सामना करते हुए जिस तरह VLCC फेमिना मिस इंडिया 2020 की रनर-अप बनीं, वह एक मिसाल है। गौरतलब हो कि VLCC फेमिना मिस इंडिया 2020 की इस प्रतियोगिता में तेलंगाना की मानसा वाराणसी ने खिताब अपने नाम दर्ज़ किया है। वहीं मणिका शियोकांड ने सेंकन्ड रनर-अप बनकर सभी का दिल जीता।

मान्या की मेहनत और लगन ही सबकुछ

मान्या सिंह ने पर्याप्त साधन नहीं होने के बावजूद भी सफलता हासिल की, जो बेहद प्रेरणादायक है। अपनी सफलता से उन्होंने सिद्ध कर दिया है कि दृढ़ इच्छा-शक्ति और मेहनत से बड़े-बड़े पहाड़ों को भी तोड़ा जा सकता है।

News Desk

One thought on “ऑटो रिक्शा चालक की बेटी ने विपरीत परिस्थिति में मिस इंडिया रनरअप बनकर चौंका दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *