फिल्मों में विलेन मगर असल जीवन में हीरो हैं सोनू सूद, फिर दिखाई अपनी दरियादिली और बुजुर्गों की मदद को आए आगे: इंदौर

फिल्मों में विलन का किरदार निभाने वाले सोनू सूद रियल लाइफ में किसी मसीहा से कम नहीं हैं। उन्होंने अपनी दरियादिली से अपने फैंस के साथ-साथ बड़े बुजुर्गों, बच्चों और युवाओं के दिल में अलग पहचान बना रखी है। कोरोना काल के कहर के दौरान उन्होंने बहुत से प्रवासियों को घर पंहुचाया और ऐसे अनेक कार्य किए, जिससे दुनिया उन्हें बहुत पसंद करती है। अब सोनू फिर अपने कार्य को लेकर चर्चा में हैं। वह बेसहारा और बेघर बुजुर्गों की मदद के लिए आगे आएं हैं।

बुजुर्गों को दिलाना चाहते हैं हक

सोनू सूद ने एक वीडियो द्वारा सभी से यह अनुरोध किया है कि बुजुर्गों की मदद की जाए। उन्होंने वीडियो में किसी नगर निगम और ना ही किसी सरकार का जिक्र किया, बल्कि इसमें उन्होंने कहा कि मैं इंदौर में रहने वाले सभी भाइयों-बहनों से यह दरख्वास्त करूंगा, कि वह बड़े बुजुर्गों को उनका हक दिलाने की कोशिश करें। मैं यह चाहूंगा कि उन्हें रहने के लिए घर मिले और साथ ही खाने-पीने की भी व्यवस्था हो, परन्तु मैं यह काम अकेले नहीं कर सकता। मुझे इसमें इंदौरवासियों की मदद की आवश्यकता है।

Sonu Sood help for old aged people

क्या है पूरी बात?

इंदौर के नगर निगम के कर्मचारियों ने वहां के बेसहारा और बेघर बुजुर्गों को कचरा वाली गाड़ी में जानवरों की तरह रखकर, उन्हें शिप्रा नदी के तट पर छोड़ आए थे, परंतु वह इस कार्य में असफल हुए, क्योंकि जब इस बात की भनक स्थानीय लोगों को मिली, तब उन्होंने इसका विरोध किया। जिस कारण उन्हें फिर बुजुर्गों को इंदौर लेकर जाना पड़ा। युवकों ने जानकारी दी कि गाड़ी में लगभग 15 से 20 बुजुर्ग मौजूद थे। उन बुजुर्गों में ऐसे बहुत से बुजुर्ग थे, जिनकी हालत इतनी खराब थी कि वह चल भी नहीं पा रहे थे। उनकी ऐसी हालत देखते हुए भी नगर निगम के कर्मचारियों ने बहुत ही गलत तरीके से सभी बुजुर्गों को गाड़ी से नीचे उतार, जमीन पर बैठा दिया था।

यह भी पढ़ें :- 102 वर्ष की उम्र में ओडिशा के ‘नंदा मस्तरे’ गांव के लोगों को बना रहे साक्षर, उम्र आंकड़ों में सिमटी, सरकार ने किया पद्मश्री से सम्मानित

Sonu Sood help for old aged people

बच्चों से दरख्वास्त रखें हमेशा अपने पैरेंट्स को साथ

उन्होंने बच्चों से यह दरख्वास्त किया कि वह हमेशा अपने माता-पिता को साथ रखें और उनका ध्यान भी रखें। हम इंदौरवासियों के साथ मिसाल पेश करना चाहते हैं, जिससे सभी को सीख मिले और वह अपने बड़े बुजुर्गों का ध्यान रखते हुए हमेशा उनके साथ रहें।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *