30.1 C
New Delhi
Wednesday, August 10, 2022
HomeMotivationRavi Kumar Meena ने दोनों पैर से विकलांग होते हुए कठिन परिश्रम...

Ravi Kumar Meena ने दोनों पैर से विकलांग होते हुए कठिन परिश्रम से बोर्ड में हासिल किए 100% मार्क्स, सफलता की मिसाल

कामयाबी नाम है जुनून का. एक ऐसे जज्‍बे का जिसे किसी बैसाखी की जरूरत नहीं होती है.’ विकलांगता चाहे कैसी भी, लेकिन हौसले की ताकत सबको पछाड़ देती है। विकलांग है तो क्या हुआ, क्योंकि ऐसे लोग बुलंद इरादों से मुकाम तक पहुंचने की उड़ान भरते हैं।अगर कोई व्यक्ति कुछ बनने की ठान ले तो दुनिया की कोई भी ताकत उसे सफल होने से नहीं रोक सकती। इंसान के अंदर वह ताकत होती है कि वह अपने प्रयास से हर नामुमकिन को मुमकिन कर सकता है। ऐसे ही जज्बे की कहानी हैं राजस्थान (Rajasthan) के दौसा के रहने वाले दिव्यांग रवि कुमार मीणा (Ravi Kumar Meena) की। रवि स्वस्थ ना होते हुए भी सफलता प्राप्त किए, जो स्वस्थ लोगों के लिए एक मिसाल है। रवि कुमार माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान में टॉप करते हुए 100% नंबर हासिल किए। 

12वीं की परिक्षा में रवि कुमार हर विषय में प्राप्त किए 100% नंबर

पिछले शनिवार को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की दिव्यांग और मूकबधिर विद्यार्थियों की 12वीं की रिजल्ट आई हैं। मीणा दौसा जिले के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय गंडरावा के विद्यार्थी हैं। रवि हर एक विषय जैसे हिंदी, अंग्रेजी, राजनीति विज्ञान, इतिहास और भूगोल में 100 में से 100 नंबर प्राप्त कर इतिहास रच दिए हैं।

दोनों पैर ना होने के बावजूद भी कम नहीं हुआ हौसला

कई बार हम थोड़ी सी मुश्किलों से परेशान हो कर हार मान लेते है और भाग्य को कोसने लगते है किन्तु रवि ने न तो भाग्य को दोष दिया न ही हार मानी बल्कि सारी मुसीबतों से जूझते हुए पूरी मेहनत की और सफलता हासिल की रवि का ये प्रयास हम सबको मुश्किलों से लड़ने की प्रेरणा देता है | बता दें की रवि की दोनों पैर काम नहीं करते है वह अपने शारीरिक कमजोरी की परवाह किए बिना अपने हौसले को बढ़ावा दिए और यह सफलता अपने नाम किया।

सफलता से परिवार बेहद खुश हैं

किसी भी बच्चे की सफलता से सबसे ज्यादा ख़ुशी उसके परिवार को होती है और बात अगर रवि की हो तो परिवार गर्व से फुले नहीं समां रहा है यह रवि का हौसला ही था कि दोनों पैर ना होने के बावजूद भी वह हर रोज ट्राई साइकिल के जरिए स्कूल जाते थे। इसके अलवा रोज स्कूल से आ करा 6 से 7 घंटे की पढाई करना इतनी मेहनत का ही परिणाम है की आज हर कोई रवि की तारीफ किए नहीं थकता है|

रवि की सफलता से हैं हर कोई हैरान

मिडिया से बात करते हुए अधिकारीयों ने बताया की रवि ने न सिर्फ अपने परिवार का बल्कि पुरे दौसा जिले का नाम रौशन किआ है इस ख़ुशी के मौके पर रवि के अध्यापक के साथ प्रिंसिपल भी उनसे मिलने उनके घर आये और रवि को आशीष के साथ शुभकामनाएं दी | उन्होंने अपनी मेहनत से 12वीं की परीक्षा में हर विषय में 100 में से 100% नंबर हासिल किए हैं। उनकी इस सफलता से उनका परिवार और शिक्षक बेहद खुश हैं और साथ ही आसपास के लोग बधाई देने आ रहें हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments