पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने की पहल, खराब टायरों से जूते-चप्पल बना रही यह महिला

जिस रफ़्तार से प्रदूषण पूरी दुनिया में बढ़ रहा है, वह हम सभी के लिए एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है। सरकार इससे बचने के लिए तरह-तरह की योजनाएं बना रही है, जिससे प्रदूषण कम फैले। साल 2019 की रिपोर्ट के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण की वजह से करीब 17 लाख लोगों की मौत हुई है। अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि यह संख्या करोड़ों तक भी पहुंच जाएगी।

Making shoes and slippers from tyres

पूजा बदामीकर (Pooja Badmikar) को जानिए

दुनियाभर के लोग प्रदूषण से बचने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं। यही लड़ाई महाराष्ट्र के पुणे में रहने वाली पूजा बदामीकर भी लड़ रही हैं। पूजा लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक करने के साथ-साथ खराब टायरों से जूते-चप्पल बना कर प्रदूषण के खिलाफ जंग शुरू कर चुकी हैं। रिपोर्ट के अनुसार सालभर में लगभग 1 बिलियन से ज़्यादा टायर फेंके जाते हैं, जिनका कोई प्रयोग नहीं होता। वह कबाड़ बनकर वातावरण को प्रदूषित करते हैं। प्रदूषण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए पूजा ने खराब टायरों से जूते-चप्पलों को बनाने का काम शुरू किया।

प्रदूषण के खिलाफ शुरू हुई पहल

पूजा बताती हैं कि टायर की वजह से प्रदूषण बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है। दुनियाभर में हर साल करीब 1 बिलियन टायर कबाड़ में फेंक दिए जाते हैं। इसी समस्या से राहत पाने के लिए पूजा ने मोचियों की मदद से इनके उपयोग जूते बनाने में कर रही हैं। इसके एक नहीं बल्कि दो लाभ हैं। पहला- इससे लोगों को जूता मिल जाता है और दूसरा- इससे प्रदूषण भी कम हो रहा है। यह प्रदूषण से राहत पाने के लिए छोटी ही सही लेकिन एक अच्छी पहल है।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *