बेघर लोगों को खाना खिलाना उद्देश्य इसलिए अब निकले साइकिल यात्रा पर

वर्ष 2020 सभी के लिए बहुत ही बुरा रहा, क्योंकि इसमें अनेक व्यक्तियों ने अपनी और अपनों की जाने गंवाईं। वहीं अधिकांश लोगों ने अपना रोज़गार खो दिया। इस वर्ष के मार्च महीने से पूरे देश में कोरोना के कहर से लॉकडाउन लगा, इस बीच लोग भूख से मरने लगे, तो कुछ कोरोना के संक्रमण से। हालांकि इस मुश्किल की घड़ी में अनेक लोगों ने भुखे और जरूरतमंदों की मदद भी की। उनमें से एक हैं “साइकिलिस्ट फिलेम रोहन सिंह.”

साइकलिस्ट फिलेम रोहन सिंह का परिचय

फिलेम रोहन सिंह (Filem Rohan Singh) ने लॉकडाउन के दौरान गरीब और बेसहाय व्यक्तियों की मदद की है। उन्होंने इम्फाल में प्रतिदिन लगभग 50 व्यक्तियों को खाना खिलाया है, जिसमें दोस्तों की मदद भी शामिल थी। कुछ उन्हें डोनेशन मिली और कुछ उनकी मेहनत से प्राप्त हुआ। वह “साइकलिंग फ़ॉर ह्यूमैनिटी” टी-शर्ट बेचा करते हैं, जिसकी राशि से वह गरीबों की मदद करते हैं।

For helping poors this boy is riding cycle
For helping poors this boy is riding cycle

करते हैं साइकिल यात्रा

वर्तमान में वह उड़ीसा में हैं और साइकिल यात्रा कर वह अन्य व्यक्तियों, जैसे बड़े नेताओं से मिलकर उनके सहयोग से पैसा इकट्ठा करने में लगे हैं, ताकि लोगों के मदद में उन्हें सहयोग मिल सके। उन्हें इस बात की उम्मीद है कि उनकी बातों को लोग जरूर समझेंगे और मदद भी ज़रूर करेंगे।

For helping poors this boy is riding cycle
For helping poors this boy is riding cycle

आता है प्रतिदिन लगभग 4 हज़ार का खर्च

पूर्व वर्ष से वह ima मार्केट में वहां के गरीबों को भोजन खिला रहे हैं। इन गरीबों को खाना खिलाने में उन्हें प्रतिदिन 4 हज़ार रुपये का खर्च आता है, जो वह अपने पास से करते हैं। उन्होंने बताया कि कभी 10 गरीब होते हैं, तो कभी 50 या ज़्यादा। कैल्कुलेशन के अनुसार एक व्यक्ति पर 100 रुपये की लागत खर्च आती है।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *