लॉकडाउन में जुगाड़ पद्धति से 10वीं के स्टूडेंट ने बना डाली इलेक्ट्रिक बाइक

हर वक़्त और हर दिन हर किसी के लिए कुछ ना कुछ नया लेकर ही आता है। अगर हम सुबह उठकर यह जुनून रखें कि आज हमें कुछ नया या अलग सीखना है, तो जरूर ऐसा होगा। कोरोना महामारी में अनेक लोगों को अपने घर-परिवार के साथ वक़्त बिताने का मौका मिला। इस बीच अनेक व्यक्तियों ने अपना रोजगार स्थापित किया और कुछ ने नए आविष्कार भी किये।

आज की हमारी यह प्रस्तूति एक ऐसे युवक की है, जिन्होंने इस महामारी में इलेक्ट्रॉनिक बाइक का आविष्कार किया। यह बाइक उन्होंने कबाड़ द्वारा निर्मित की, जो एक बार अगर चार्ज हुई तो 40 किलोमीटर की यात्रा तय कर लेगी।

प्रथमेश सुतारा की परिचय

प्रथमेश सुतारा (Prathmesh Sutara) कर्नाटक (Karnatka) से ताल्लुक रखते हैं और वह 10वीं कक्षा के छात्र हैं। उनके पिता इलेक्ट्रिशियन हैं और इससे ही उनका गुजारा होता है। उन्होंने जब यह देखा कि उनका बेटा कबाड़ द्वारा एक ऐसी बाइक का निर्माण किया है, जो चार्ज होने के बाद चलती है, तो वह आश्चर्यचकित हो गए और अपने बेटे पर फख्र महसूस किया।

Electric bike 10th student during lockdown

एक बार चार्ज होने के बाद चलती है 40 किलोमीटर

उन्होंने इस बाइक के निर्माण में लीड (Lead) एसिड 48 वोल्टेज मोटर की सेल का उपयोग किया। इसके साथ-साथ उन्होंने 750 वाट के मोटर का भी उपयोग किया। इस सभी सामग्रियों द्वारा ही उन्होंने चार्ज करने वाली मोटर बनाई।

Electric bike 10th student during lockdown

गरीब के लिए किया बाइक का निर्माण

उन्होंने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी कि जिस तरह पेट्रोल और डीजल का दम बढ़ रहा है, आम आदमी इसका उपयोग नहीं कर पा रहा है। इस बात को ध्यान में रखते हुए मैंने गरीब की सहायता के लिए चार्जिंग वाली बाइक बनाई है।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *