मां की बीमारी के कारण छोड़नी पड़ी पढ़ाई, अब कमा रहे 45 लाख सालाना:राजवीर सिंह

कहते हैं जहां चाह होती है, वहां राह भी होती है। अगर आप कुछ मन से करना चाहें, तो आपके पास बहुत से विकल्प हैं। आज हम एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बात करेंगे, जो खेती के साथ-साथ सहायक धंधों से अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। बठिंडा साहिल गर्ग ज़िले के मेहराज गांव के रहने वाले राजवीर सिंह (Rajveer Singh) 40 साल की उम्र में अपना फार्म हाउस बनवा कर अपने सपने को पूरा किया। इन धंधों से राजवीर हर साल 45 लाख तक की कमाई कर रहे हैं।

राजवीर के फार्म हाउस पर आप प्रकृति सौंदर्य देख सकते हैं

मेहराज गांव में राजवीर द्वारा 4 एकड़ में बनाए गए फार्म हाउस के चारों ओर 2 हज़ार से ज़्यादा अलग-अलग प्रकार के पेड़-पौधों लगाए गए हैं। राजवीर ने कुछ ऐसे दुर्लभ प्रजाति के लुप्त हो रहे सैकड़ों चिड़िया, घुग्गी व मोर भी अपने फार्म हाउस में रखे हैं। इसके अलावा वह अपने फार्म हाउस में घोड़े व कुत्ते भी रखते हैं। राजवीर के अपने फार्म हाउस पर सभी फलों के पेड़ हैं तथा वह अपने खेतो में आर्गेनिक सब्जी व अनाज पैदा करते हैं।

Earning lakhs through farm house

राजवीर 18 साल की उम्र से कर रहे हैं मछली पालन का काम

राजवीर की मां के बीमार रहने की वजह से वह मैट्रिक के आगे पढ़ाई नहीं कर सके और उन्हें पढ़ाई छोड़ना पड़ी। राजवीर मात्र 18 साल की उम्र से ही मछली पालन का काम करते हैं। मत्स्य पालन का प्रशिक्षण लेने के बाद उन्होंने घर की 10 एकड़ बंजर ज़मीन को ही अच्छी तरह से साफ किया और 4 एकड़ में फिश फार्म हाउस बनाया। शुरुआत में राजवीर 30-35 लेबर मछली पालन तथा मंडीकरण के काम के लिए रखते थे।

यह भी पढ़े :- ग्राफ्टिंग तकनीक से एक पौधे में उग रही दो सब्जियां: आलू, बैंगन और टमाटर

राजवीर का बिजनेस

राजवीर अपने बिजनेस को आगे बढ़ाते हुए अगले साल से पंचायती छप्पड़ वाली नहरी पानी वाले ज़मीनें ठेके पर लेकर वहां भी मछली पालन का काम करेंगे। अभी राजवीर के पास लगभग 30 गांवों की पंचायती ज़मीन है, जिसमें मछली पालन के लिए तालाब हैं। साथ ही राजवीर ने राजस्थान के सूरतगढ़ में भी पिछले 10 साल से 150 एकड़ ज़मीन लीज पर लेकर उसमें मछली पालन का काम कर रहे हैं। राजवीर 200 एकड़ पंचायती ज़मीन में बनाए पौंड में मछली पालन का काम करते हैं, जिसमें एक एकड़ में लगभग 15 क्विंटल तक मछली पैदा होती है, जो बहुत ही अच्छी दाम में बिकती भी है और राजवीर को अच्छा मुनाफा होता है।

Earning lakhs through farm house

राजवीर अब अन्य राज्य में भी करते हैं सप्लाई

राजवीर बताते हैं कि मछली की बिक्री पंजाब में ज़्यादा नहीं होती परंतु इससे राजवीर को ज़्यादा परेशानी नहीं होती क्योंकि इसमें मंडीकरण की कोई समस्या नहीं होती। अब राजवीर पटियाला, चंडीगढ़, श्रीनगर, दिल्ली तक के व्यापारियों को माल सप्लाई करते हैं। इसके अलावा व्यापारी भी उनके फार्म हाउस से मछली लेने आते हैैं। इससे उन्हें अच्छा दाम मिल जाता है।

Earning lakhs through farm house

राजवीर को इस कार्य में होने वाली समस्या

राजवीर कहते हैं कि मछली पालन व्यवसाय पूरी तरह से पानी पर निर्भर है, इसमें ज़्यादा समस्या नहरी पानी की है। ज़रूरत की तुलना में नहरी पानी बहुत कम मिलता है, जबकि ट्यूबवैल कनेक्शन भी कमर्शियल रेट पर लगता है। हर महीने में 25 से 30 हज़ार रुपये तक का बिल आता हैं। राजवीर बताते हैं कि ऐसे में मछली पालन का कारोबार शुरू करना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा अगर बहुत ज़्यादा बरसात होती हैं, तो एक पौंड में लगभग 5 से 6 लाख रुपये का नुकसान भी हो जाता है।

हम राजवीर सिंह को उनके कामयाबी के बधाई देते हैं।

News Desk

One thought on “मां की बीमारी के कारण छोड़नी पड़ी पढ़ाई, अब कमा रहे 45 लाख सालाना:राजवीर सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *