अब कलेक्टर सर की क्लास में सॉल्व होंगी छात्रों की परेशानियां, बन सकेंगे अफसर

शिक्षा ऐसी अलख है, जिसे जलाकर अज्ञानता को दूर किया जा सकता है। ऐसा नहीं है कि अमीर माता-पिता के बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं, और गरीब बच्चों को शिक्षा नहीं मिलती। ऐसे बहुत युवा हैं, जिन्होंने गरीबी में ही पढ़ाई कर सफलता हासिल की है। ऐसे बहुत से युवा भी हैं, जो उन गरीब बच्चों को शिक्षा प्रदान करते हैं। छिंदवाड़ा ज़िले के एक कलेक्टर की एक पहल भी कुछ ऐसी ही है। वह अपने शहर के सभी युवाओं को प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयार करा रहे हैं।

कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन

सौरभ कुमार सुमन (Saurabh Kumar Suman) छिंदवाड़ा (Chhindwada) ज़िले के कलेक्टर हैं। वह आईपीएस और आईएएस की कोचिंग द्वारा युवाओं को एग्जाम के लिए तैयार कर रहे हैं। उनकी कोचिंग क्लास ” कलेक्टर सर” के नाम से प्रसिद्ध है और युवाओं के लिए अधिक लाभदायक भी है। यहां बच्चों को निःशुल्क तैयारी कराई जाती है। इस बात को हम सभी जानते हैं कि बहुत से युवाओं के पास कुछ अलग करने की ख़्वाहिश होती है, लेकिन पैसे की तंगी के कारण वह पढ़ाई नहीं कर पाते, इसलिए कलेक्टर सर अपनी कोचिंग क्लास द्वारा उन सभी युवाओं के सपनों को साकार करने में लगे हैं। उनकी यह पहल बहुत सही सिद्ध हो रही है, “अब छोटे शहर के युवा भी आईएस और आईपीएस बनेंगे।”

Collector is giving coaching classes for students
Source Etv bharat

बच्चों के सपने हो पूरे

बात अगर छिंदवाड़ा के विषय में हो तो, यहां के युवाओं को अगर कोई गवर्नमेंट जॉब की तैयारी करनी है, इसके लिए उन्हें कोचिंग क्लासेस दिल्ली या फिर इंदौर जैसे शहरों में जाकर लेनी पड़ती है। ऐसे बहुत से युवा हैं, जिनके पास इन बड़े शहरों में जाकर फीस भरने और अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पैसे नहीं है। इस वजह से उन बच्चों को अपनी ख्वाहिशें दबाकर रखने पर मजबूर हो जाते हैं, इसलिए कलेक्टर सौरव चाहते हैं कि बच्चे अपनी ख्वाहिश ना छुपाएं और पढ़ाई कर अफसर बने। कलेक्टर सौरव और उनके साथ उनकी अफसरों की टीम उन सभी बच्चों को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करा रही है।

छोटे शहर के युवा सपनों को पूरा कर सकते हैं

उन्होंने यह जानकारी दी कि हमारी यही कोशिश है कि अच्छी शिक्षा सभी बच्चों को मिले। चाहे क्यों ना वह बच्चे छोटे शहर से हो। हमारे समाज में ऐसे बहुत से युवा हैं, जो चाहते हैं कि वे यूपीएससी की तैयारी करें, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण वह इस फील्ड में नहीं आते इसलिए हम चाहते हैं कि उन बच्चों के सपनों के बीच उनकी आर्थिक स्थिति ना आए और वह अपने सपने पूरा कर सकें। उन्होंने बताया कि हम ऐसा नहीं कहते कि वे सभी बच्चे यूपीएससी को क्रैक कर आईपीएस या आईपीएस बन सकते हैं, लेकिन इतना ज़रूर दावे के साथ कह सकते हैं कि वह किसी ना किसी गवर्नमेंट जॉब को ज़रूर हासिल कर लेंगे।

कलेक्टर सर के कोचिंग क्लास में सभी युवाओं को निःशुल्क शिक्षा मिलती है और उनके भविष्य के लिए उन्हें तैयार किया जा रहा है। वहां सभी विद्यार्थियों को क्लास की हर बात समझ आती है और वह इस क्लास से बहुत सन्तुष्ट हैं।

News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *