महिला शक्ति

चेन्नई की महिला ने 500 रुपए में शुरू किया था अपना कारोबार, आज 25 लाख का टर्नओवर कमा रहीं

अगर हमारा इरादा पक्का हो, तब कोई भी कामयाबी प्राप्त करना मुश्किल नहीं होता। हम पूरी लगन से कोशिश करें तब हम अपना सपना जरूर पूरा कर सकते हैं। आज हम एक ऐसी ही महिला की बात करेंगे, जिसने केवल 500 रुपये से कंपनी की शुरूआत कर 25 लाख का टर्नओवर कर रही हैं। शुरुआत में उन्हें बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता परंतु आज वह अपने हिम्मत के चलते बहुत लोगों के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं।

चेरिल हफटन (Cheryl Huffton) को जानिए

चेरिल हफटन चेन्नई (Chennai) की रहने वाली हैं। वह पहले एक स्कूल की टीचर थीं परंतु उसके कुछ समय बाद उन्होंने अपना बिजनेस शुरू करने का फैसला किया। चेरिल ने कंपनी का नाम ड्रीम वीवर्स रखा है। इस कंपनी की शुरूआत चेरिल ने केवल 500 रुपये में किया था। चेरिल की यह कंपनी ड्रीम वीवर्स इकोफ्रेंडली टेक्सटाइल्स बनाने का काम करती है। ड्रीम वीवर्स कंपनी महिलाओं के कपड़ों को डिजाइन करती हैं। ड्रीम वीवर्स के बनाए उत्पाद स्पा और ब्यूटी पार्लर में खूब इस्तेमाल होते हैं। इस कंपनी का प्रोडक्ट मुख्य रूप से डिस्पोजेबल होता है, जिसे केवल एक ही बार इस्तेमाल किया जाता है।

Chennai women earning lakhs through textile business

इस तरह आया ड्रीम वीवर्स का आइडिया

चेरिल की ड्रीम वीवर्स कंपनी का टर्नओवर अब 25 लाख रुपये का है। अब उनकी यह कंपनी अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में अपना हाथ आजमाने की तैयारी कर रही हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार चेरिल एक शादी समारोह में गई थी। वहां चेरिल की बेटी डेनिस ने ईको-फ्रेंडली नैपकिन और अन्य सामान देखा फिर अपनी माँ को बताया। चेरिल के दिमाग में उसी समय इस बिजनेस का आइडिया आया। उसके बाद ही उन्होंने इस कंपनी की शुरूआत की और आज वह सफल महिलाओं में एक हैं। उन्होंने अपनी कंपनी की पहली इंप्लॉई अपनी मेड प्रेरणा को बनाया जो एक पैर से लाचार थीं।

यह भी पढ़े :- 15 साल की उम्र में छोड़ा पिता का घर फिर स्टेशन पर बिताई रात,अब है 15 करोड़ का कारोबार

कुछ इस तरह हुई बिजनेस की शुरूआत

चेरिल एक मीडिल क्लास फैमिली से हैं, इसलिए उन्होंने केवल 500 रुपये से शुरुआत किया। उन्होंने किस्त पर सिलाई मशीन ली और घर से ही काम शुरूआत किया। पैसे की कमी की वजह से उन्होंने कपड़े का पूरा रोल ना खरीदकर थोड़ा कपड़ा खरीद कर काम शुरू किया। उन्होंने इस काम के लिए आस-पास के आर्थिक रूप से गरीब लोगों को अपने साथ जोड़ा। इन महिलाओं ने काम के साथ-साथ ट्रेनिंग लेनी शुरू की और काम धीरे-धीरे बढ़ता चला गया। चेरिल की बेटी ने इन महिलाओं को ट्रेनिंग देकर डिजाइन, कटिंग और सिलाई का काम सिखाया।

Chennai women earning lakhs through textile business

शुरूआत में हुई बहुत मुश्किल

शुरूआत में चेरिल के कंपनी में कुछ ऐसे प्रोडक्ट बनाए गए जो सस्ते भी हो और पर्यावरण के लिहाज से सुरक्षित भी हो। चेरिल ने स्पा और ब्यूटी पार्लर में इस्तेमाल होने वाले डिस्पोजेबल आइटम से शुरूआत की। अपने प्रोडक्ट बेचने के लिए उन्होंने चेन्नई के स्पा और ब्यूटी पार्लर में कांटेक्ट करना शुरू कर दिया। शुरू के दिनों में चेरिल को अपनी प्रोडक्ट बेचने में बहुत दिक्कत हुई। उन्हें बहुत से जगह से मायूसी और झिड़की का सामना करना पड़ा परंतु उन्होंने इससे हार नहीं मानी।

यह भी पढ़े :- बेंगलुरू की नीता ने 10 हज़ार से शुरू किया था अपना कारोबार, अब कमा रहीं करोड़ों: जानिए कैसे

बिजनेस में आई कई बाधाएं

बहुत से दिक्कतों का सामना करने के बावजुद चेरिल की कंपनी ने शुरूआत के दूसरे महीने में ही 5 हज़ार का बिजनेस किया। यह उनके लिए बहुत ही खुशी की बात थी। उन्होंने अपने मेहनत के जज्बे को बनाए रखा। उनके द्वारा क्लायंट को बताया गया कि कंपनी में काम करने वाली महिलाएं तंगहाली की शिकार हैं और उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं हैं। उनका कहना है कि उनका बिजनेस बढ़ेगा तो उनका परिवार भी चलेगा इसलिए प्रोडक्ट बिकने का मतलब है, उन गरीब परिवारों की दो वक़्त की रोटी मिलना। दूसरे महीने में चेरिल ने एक सेकेंड हैंड पावर मशीन खरीदा फिर उसे अपने घर के बरामदे में लगा लिया।

Chennai women earning lakhs through textile business

12 बेसहारा महिलाओं को मिला रोज़गार

चेरिल के कंपनी को भारतीय युवा शक्ति ट्रस्ट से बहुत मदद मिली है। इस ट्रस्ट की सिफारिश पर इंडियन बैंक से चेरिल की कंपनी को ढ़ाई लाख रुपये का लोन मिला। इस पैसे से चेरिल ने और तीन मशीनें खरीदी। काम आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने बेसहारा महिलाओं को नौकरी दी। ऐसा कर धीरे-धीरे कंपनी आगे बढ़ती चली गई। ब्यूटी पार्लर से प्रोडक्ट के लिए फोन आने लगे। आज चेरिल की उसी कंपनी में कुल 8 मशीनें लगी हैं। 12 महिलाएं उनके साथ काम कर रही हैं। वहीं 10 महिलाएं नॉन रेगुलर भी हैं। चेरिल अब गरीब महिलाओं के लिए ट्रेनिंग सेंटर खोलने का फैसला कर रही हैं।

सालाना 25 लाख की कर रही हैं कमाई

अब चेरिल की कंपनी की कुल 50 छोटे और 15 बड़े क्लायंट हैं, जो उनसे प्रोडक्ट खरीदते हैं। हिंदुस्तान लीवर का आयुष भी उनके क्लायंट में से एक है। चेरिल द्वारा अब हर बड़े क्लायंट को हर महीने लगभग 2 लाख रुपये का प्रोडक्ट बेचा जा रहा है। अब ड्रीम वीवर्स की सालाना कमाई 25 लाख रुपये तक पहुंच चुकी है। ना केवल देश में बल्कि चेरिल की कंपनी की बातचीत अब दुबई की कंपनियों से भी हो रही है।

Show More

Related Articles

21 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button