केवल दूध ही नही गोबर को भी इन्होंने बना दिया कमाई का ज़रिया, एक सरकारी नौकरी से भी अच्छा कमाई कर रहे हैं

दुनिया में काम की कोई कमी नहीं है बशर्ते हम किसी काम को छोटा या बड़ा नहीं समझें। किसी भी काम को अगर पूरी ईमानदारी और मेहनत से किया जाए तो हमें सफ़ल होने से कोई नहीं रोक सकता। आज हम एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बात करेंगे जो गाय के दूध के जगह उसका गोबर बेचकर हर महीने लाखों की कमाई कर रहा है।

सुरजीत सिंह (Surjeet Singh)

सुरजीत रायपुर (Raipur) के छत्तीसगढ के निवासी हैं। एक ओर जहां लोगो के लिए दूध बेचकर गुजारा करना मुश्किल हैं, वहीं दूसरी ओर सुरजीत गोबर बेचकर हर महीने लाखों कमा रहे हैं। पिछले साल छत्तीसगढ़ के सरकार ने जो गोधन न्याय योजना शुरू किया था उसके तहत राज्य सरकार गौठानों से गोबर खरीदती है। इसके लिए सरकार प्रति किलो गोबर के लिए 2 रुपये का भुगतान करती है।

animals farming

सरकार की इस योजना ने सुरजीत की किस्मत बदल दी

सुरजीत कहते हैं कि सरकार की इस योजना ने मेरी किस्मत ही बदल दी। सुरजीत हर रोज़ 2 टन (2 हजार किलो) गोबर सरकार को बेच रहे हैं। इस तरह उनकी रोज की कमाई 4 हजार रुपये की हैं और हर महीने करीब 1.20 लाख रुपये कमा रहे हैं। सुरजीत बताते हैं कि पहले जब गाय दूध नहीं देती थी तो इन गायों से उन्हें दिक्कत होने लगी थी। मगर अब वे गाय भी उनकी कमाई का जरिया बन गई हैं।

यह भी पढ़ें :- पेड़ों की कटाई को रोकने के लिए गांव वालों ने चिपको आंदोलन शुरू किया, सरकार खुद पेड़ कटवा रही थी

सुरजीत कर रहे हैं दुगुनी कमाई

सुरजीत ना सिर्फ़ गोबर से बल्कि दूध से भी अच्छी कमाई कर रहे हैं। वह बताते हैं कि इससे उनकी इनकम दुगुनी हो गई है। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के प्रोग्रेसिव डेयरी फार्मर्स एसोसिएशन (सीजीपीडीएफए) के सह-सचिव बताते हैं कि गोधन न्याय योजना से बहुत से गौपालकों को फायदा मिला है। अब इस योजना की मांग पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) में भी हो रही। वहाँ के पशुपालक भी चाहते हैं कि राज्य सरकार उनसे गोबर खरीदें।

 earns by cow dung

गौपालन और दूध उत्पादन के तरफ युवाओ का रुझान

सरकार अपनी योजना के तहत गौठानों से गोबर खरीद रही हैं, परंतु जिन क्षेत्रों में गौठान नहीं है, वहाँ यह मांग की जा रही कि सरकार सीधे गौपालकों से गोबर खरीदे। सुरजीत बताते हैं कि गौपालन और दूध की मांग बढ़ने से युवा इस काम के तरफ ज्यादा रुचि ले रहें हैं। एक अनुमान के अनुसार अगर छत्तीसगढ़ में भी बेहतर चारा और अन्य अच्छी सुविधाएं मिले तो इस क्षेत्र में वह पंजाब को काफी पीछे छोड़ सकता है।

farmer earns by cow dung

सरकार उन गोबरो से वर्मी कम्पोस्ट और अन्य उत्पाद तैयार करती है

आप सोच रहे होंगे कि आखिर सरकार गोबर खरीद कर उसका करती क्या है। गोधन न्याय योजना के तहत सरकार पशुपालकों से गौठान समितियों के जरिए गाय और भैंसों का गोबर खरीदती है। इससे सरकार वर्मी कम्पोस्ट और अन्य उत्पाद तैयार करती है। इसके साथ ही वह जैविक खेती को बढ़ावा भी देती है। सरकार के इस योजना के जरिए ग्रामीण और शहरी इलाकों के पशुपालकों की इनकम में बढोतरी हो रही है। इसके अलावा गौपालन को बढ़ावा भी मिल रहा है।

News Desk

One thought on “केवल दूध ही नही गोबर को भी इन्होंने बना दिया कमाई का ज़रिया, एक सरकारी नौकरी से भी अच्छा कमाई कर रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *