37.1 C
New Delhi
Saturday, June 25, 2022
HomeBusinessअजीम प्रेमजी सबसे दानवीर भारतीय बने, हर दिन दिया 27 करोड़ रुपए...

अजीम प्रेमजी सबसे दानवीर भारतीय बने, हर दिन दिया 27 करोड़ रुपए का दान

भारत में एक से बढ़कर एक अमीर हैं। अमीरों की सूची बनाया जाए तो भारत में कई ऐसे नाम आएगा जिन्होंने अपने मेहनत के बदौलत पैसे वाले बने हैं।

टाटा-बिड़ला की कहावत तो आज भी सबसे मशहूर है और यह कहावत लोग एक-दूसरे पर भी बोलते नजर आते हैं। पर आज हम आपको बताएंगे कि भारत के अमीरों की सूची में सबसे बड़ा दानवीर कौन-कौन है। जिन्होंने महामारी प्रभावित वर्ष के दौरान अपनी उदारता दिखाई है। आइये जानते इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में।

अजीम प्रेमजी का दान

एक दिन में 27 करोड़ रुपये और एक साल में 9713 करोड़ रुपये दान करने वाले अजीम प्रेमजी वित्तीय वर्ष 2020 में सबसे दानवीर भारतीय बन गए हैं। दिग्गज सूचना तकनीक कंपनी विप्रो के संस्थापक प्रेमजी ने इसी के साथ परोपकारियों की सूची में भी पहला स्थान हासिल कर लिया है। दानवीरों के सूची में इनका नाम शीर्ष पर है।

शिव नाडर का दान

एचसीएल के फाउंडर शिव नाडर एक भारतीय अरबपति उद्योगपति हैं। जिन्होंने 1976 में एचसीएल की स्थापना की और अगले तीन दशकों में अपनी कंपनी को लगातार बदलते हुए आईटी हार्डवेयर कंपनी से एक मेन आईटी बिजनेस में बदल दिया। वह एक सफल उधोगपति तो है ही साथ ही साथ वह दानवीर भी हैं। शिव नाडर दानवीरों में दूसरे स्थान पर हैं। जिन्होंने सामाजिक कार्यों के लिए 1,263 करोड़ रुपये का दान दिया है।

मुकेश अंबानी की उदारता

मुकेश धीरूभाई अंबानी एक भारतीय व्यवसायी हैं और उनकी सम्पत्ति लगभग 48 अरब डॉलर हैं। वह रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक हैं। मुकेश अंबानी मार्च, 2020 में एशिया के सबसे अमीर और दुनिया के 17 वें सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं। दानवीरों की सूची में उनका नाम तीसरे स्थान पर आता है। मुकेश अंबानी 577 करोड़ रुपये का दान किया है।

कुमार मंगलम का दान

कुमार मंगलम बिरला एक भारतीय उद्योगपति और आदित्य बिरला समूह के अध्यक्ष हैं, जो भारत में सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है। वह बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस के कुलपति भी हैं। अगर उनके उदारता की बात करें तो वो दानवीरों की सूची में चौथे स्थान पर आते हैं। कुमार मंगलम बिड़ला ने महामारी प्रभावित वर्ष के दौरान 377 करोड़ रुपये का दान दिया है।

नंदन नीलेकणी का दान

नंदन नीलेकणि इन्फोसिस के सह अध्यक्ष और संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। उनकी लीडरशिप में इंफोफिस ने कई मुकाम हासिल किए। सिर्फ शानदार बिजनेसमैन ही नहीं वह एक सरल और सुलझे हुए इंसान भी हैं। अगर उनके उदारता की बात करें तो उन्होंने महामारी वर्ष में 183 करोड़ रुपये का दान दिया है। वह सूची में पांचवे स्थान पर हैं। अगर भारत के दानवीरों की बात करें तो शीर्ष दस में हिंदुजा परिवार, बजाज परिवार, अनिल अग्रवाल और बर्मन परिवार शामिल हैं।

अगर आपको यह जानकरी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments