29.1 C
New Delhi
Saturday, June 25, 2022
HomeMotivationबंजर भूमि पर लगा दिए सोलर प्लांट, गांव वालों को बिजली के...

बंजर भूमि पर लगा दिए सोलर प्लांट, गांव वालों को बिजली के साथ ही खेती में मिल रही है मदद

देश में बिजली का 53% उत्पादन कोयले से किया जाता हैं और ऐसा अनुमान लगाया जाता हैं कि वर्ष 2040-2050 तक यह भी समाप्त हो जाएगा। भारत की 72% से अधिक जनता गाँवों में निवास करती हैं और इसमें से आधे गाँव बिना बिजली के ही अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

अब भारत ऐसी स्थिति में आ गया हैं कि अब हम ऊर्जा के अधिकाधिक उत्पादन के लिए, ऊर्जा के संरक्षण के
क्षेत्र में उसके नविनीकरण एवं बचाव के लिए कदम उठाए। इस मांग को पूर्ण करने हेतु सौर ऊर्जा का उपयोग सर्वोत्तम उपाय हैं। जिससे हम ऊर्जा की मांग एवं पूर्ति के बीच सामंजस्य स्थापित कर सकते हैं।

आज हम आपको एक ऐसे इंसान के बारे में बताएंगे जिन्होंने स्वदेशी मॉडल अपनाकर गांव में सोलर प्लांट लगा दिए है। अब गांव वालों को बिजली के साथ ही खेती में भी मदद मिल रही है। आइये जानते हैं इनके बारे में।

आमोद पंवार का परिचय।

आमोद पंवार उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ स्थित इंद्रा टिपरी गांव के रहने वाले है। उन्होंने आपदा को अवसर में बदला है। आामोद ने कोविड के दौर में सौर ऊर्जा का प्लांट स्थापित किया है।
जो स्वरोजगार का आधुनिक मॉडल है। इसमें 200 किलोवाट बिजली उत्पादन के साथ प्लांट क्षेत्र में सब्जी उत्पादन, मौन पालन, गाय पालन, मुर्गी पालन शुरू किया है।

मुख्यमंत्री ने की तारीफ।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी आमोद पंवार के स्वरोजगार के आधुनिक मॉडल से प्रभावित है। उन्होंने आमोद के कार्यों की बेहद सराहना की है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी 30 सितंबर 2020 को आमोद के सौर ऊर्जा स्वरोजगार के मॉडल को देखने के लिए पहुंचे थे। उन्होंने आमोद के प्रयास की बहुत सराहना भी की थी।

बंजर भूमि पर शुरू किया प्लांट।

अमोद के पास 15 नाली भूमि बंजर पड़ी हुई थी। वह उस बंजर भूमि का उपयोग करना चाहते थे। तब उन्होंने सोलर प्लांट लगाने का निश्चय किया। उन्होंने वर्ष 2019 में सोलर प्लांट योजना के लिए आवेदन दिया। आमोद ने योजना को भूमि पर उतारने के लिए 80 लाख का लोन भी लिया। पूरे देश में कोवि’ड-19 के लॉक’डाउन लगने के 1 दिन पहले अर्थात 23 मार्च को आमोद पनवार का 200 किलो वाट का प्लांट ग्रिड से जुड़ा तथा प्रोडक्शन कार्य प्रारंभ हो गया था।

बिजली का अच्छा उत्पादन हुआ।

प्लांट से अभी तक सवा दो लाख यूनिट से अधिक बिजली का उत्पादन हो चुका है। इस प्लांट के माध्यम से सालाना औसतन 3 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन होगा। यह बिजली आने वाले 25 यूपीसीएल की खरीद करेगा। इस वक्त 4.38 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली की खरीद हो रही है।

आज आमोद पंवार की जितनी तारीफ की जाए कम है। लोगों को उनसे सीखने की आवश्यक्ता है।

Sunidhi Kashyap
सुनिधि वर्तमान में St Xavier's College से बीसीए कर रहीं हैं। पढ़ाई के साथ-साथ सुनिधि अपने खूबसूरत कलम से दुनिया में बदलाव लाने की हसरत भी रखती हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments